उत्तरकाशी:टनल से मजदूरों को निकालने में अब तक के सभी प्रयास विफल, अब आंगर ड्रिलिंग से रेस्क्यू ऑपरेशन शुरू

jantakikhabar
0 0
cropped-AAPNKHABAR-1.jpg
Read Time:2 Minute, 45 Second
चिरंजीवी सेमवाल
उत्तरकाशी। पिछले 4 दिनों से सिलक्यारा टनल में फंसे 40 मजदूरों को रेस्क्यू करने के सभी प्रयास असफल हो चुके हैं। दर्जनों एक्स्पर्ट इंजीनियरों की मदद से अब तक के जो प्रयास किये गये। गये उन्हें असफल होते देख अब गाजियाबाद से मंगाई गई बड़े ब्यास वाली आंगर ड्रिलिंग मशीन की सहायता से रेस्क्यू के प्रयास शुरू हो गया हैं।
आंगर ड्रिलिंग की मदद से 900 मी मि वाले एसएस पाइपों को मिट्टी के ढेर के बीचों बीच फंसा कर एक कोने दूसरे हिस्से तक पंहुचाया जायेगा और यदि यह प्रयास सफल हुआ तो बड़े ब्यास वाले इन पाइपों के रास्ते अंदर जिंदगी के जंग लड़ रहे 40 मजदूरों को एनडीआरएफ और एसडीआरएफ, आईटीबीपी की मदद से बाहर निकालने की तैयारी है। हालांकि यह कार्य इतना सरल भी नहीं क्योंकि मिट्टी के ढेर के बीच यदि बड़े पत्थरों से लोहे के पाइप टकरा गये तो वै मुड़ भी सकते हैं मगर फिलहाल तो 40 जिंदगियों को बचाने के लिए जद्दोजहद एक्स्पर्ट इंजीनियरों द्वारा हो रही है। यदि यह प्रयास सफल रहा तो आज शाम तक अंदर फंसे मजदूरों का रेस्क्यू भी हो जायेगा और उन्हें इलाज के लिए हैली सेवा से हायर सेंटर ले जाया जायेगा। कल रात को केंद्र से भूगर्भीय वैज्ञानिकों का एक दल भी  पंहुच गया है जो टनल के टूटने के बारिकियों पर सोध करेगी। सिलक्यारा टनल के अंदर फंसे कुछ मजदूरों के परिजन ब्रह्मखाल या आसपास में ही किराये पर रहते हैं और वै परेसान है। किसी का पति तो किसी का भाई तो किसी का साला टनल में विगत 4 दिनों से जिंदगी की जंग लड़ रहे है। अभी तक शासन प्रशासन के किसी भी कर्मी ने इनकी सुध तक नहीं ली स्थानीय लोग ही उन्हें ढांढस बढ़ा रहे हैं। हालांकि टनल में फंसे मजदूरों से उनके साथियों का वाकी टाकी से संपर्क होने की बात कही जा रही है और उनकी कुशलता की बात कही जा रही है। उनकी कुशलता के लिए सभी भगवान से प्रार्थना कर रहे हैं।
Avatar

About Post Author

jantakikhabar

9897129437 गोपेश्वर चमोली ranjeetnnegi@gmail.com
Happy
Happy
100 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleepy
Sleepy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

उत्तरकाशी:ड्रिलिंग मशीन हुई खराब, वायु सेना बेस से लाई गई नई मशीन

    मशीन को हरक्यूलस विमान से किया एयरलिफ्ट 5 दिनों से टनल में कैद 40 श्रमिक उत्तरकाशी। पिछले चार दिनों से टनल में कैद 40 श्रमिकों का अब बाहर आने की आश फिलहाल हाई पावर ड्रिलिंग मशीन पर टिकी है। बुधवार को भारतीय वायुसेना के विशेष माल वाहक दो […]

You May Like

Subscribe US Now

Share